Skip to content

JAIN ACCOUNTS

Home » अप्रत्यक्ष कर की विशेषताएं, लाभ और हानि क्या हैं?

अप्रत्यक्ष कर की विशेषताएं, लाभ और हानि क्या हैं?

Features of indirect Taxes

अप्रत्यक्ष कर के बारे में आप जानते ही होंगे। यह कर प्रणाली का एक प्रारूप हैं। जिससे सरकार को जनता से कर एकत्रित करने में मदद मिलती हैं। अगर आप अप्रत्यक्ष कर के बारे में नहीं जानते या अधिक जानना चाहते तो नीचे दिया लेख जरूर पढ़े।

आज इस लेख के माध्यम से हम अप्रत्यक्ष कर के गुण, विशेषता, लाभ व हानि के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे। और जानेंगे की सरकार और जनता के लिए यह किस प्रकार प्रभावी ढंग से कार्य करता हैं।

Keywords 
What is features of Indirect Taxes?
What is Advantage and Disadvantage of Indirect Taxes?
What is pros and cons of Indirect Taxes?
What is profit and loss of Indirect Taxes?

अप्रत्यक्ष कर की विशेषताएं

देश विदेश में कई तरह से अप्रत्यक्ष कर लगाए जाते हैं। और इनपर कई कानून बनाए जाते हैं। कुछ कानून इन करों को विशेष बनाते हैं। आज हम अप्रत्यक्ष करों की ऐसी कुछ विशेषताओं का वर्णन करेंगे

प्रकृति

अप्रत्यक्ष कर प्रतिगामी प्रकृति के होते हैं। क्योंकि इसमें कम आय वाला व्यक्ति अधिक कर का भुगतान करता हैं जबकि अधिक आय वाला कम।

बचत और निवेश

यह विकासोन्मुखी होता हैं। जो उपभोक्ता को बचत और निवेश के लिए प्रेरित करता हैं। और आवश्यकतानुसार वस्तुओं का उपयोग करने के लिए अनुकूल होता हैं।

उपभोक्ता द्वारा भुगतान

कर का भुगतान अंतिम बिंदु पर उपभोक्ता द्वारा किया जाता हैं। जो सरकार को विक्रेता के माध्यम से दिया जाता हैं। विक्रेता इस कर को भरने के लिए उत्तरदायी होता हैं।

कर के बोझ को हटाना।

यह लोगो को कर भरने के बोझ से मुक्त करता हैं। वह इस कर का दायित्व विक्रेता को स्थानांतरित कर देते हैं। और कर का भुगतान वस्तु या सेवा के मूल्य के साथ विक्रेता को कर देते हैं।

कर चोरी को कम करता हैं।

यह पहले से निश्चित रूप से वस्तुओं के मूल्य में शामिल होता हैं। इसलिए इनसे बचना मुश्किल होता हैं। आपके द्वारा किए गए भुगतान में कर स्वतः शामिल होता हैं। जिससे कर की चोरी कम होती हैं।

सरकार के लिए राजस्व

अप्रत्यक्ष कर कई तरीकों से लगाया जाता हैं। यह अधिकांश उत्पादों पर पहले से निश्चित होने के कारण कर से बचा नही जा सकता हैं। जिससे अधिक कर प्राप्त होता हैं। इसलिए यह सरकार के राजस्व के लिए महत्त्वपूर्ण स्रोत के रूप में कार्य करता हैं। क्योंकि यह प्रत्यक्ष कर से अधिक राजस्व प्राप्त करने में सक्षम हैं।

उपभोक्ता पर प्रभाव

उपभोक्ता प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित नहीं होता हैं। यह कर उपभोक्ता की अर्जित आय पर नहीं लगाया जाता हैं। माल के दौरान लिए जाने के कारण इन करों पर ध्यान केंद्रित नहीं होता हैं। जिससे सरकार और लोगो के बीच मध्यस्थता बनी रहती हैं।

अप्रत्यक्ष कर के लाभ

अप्रत्यक्ष कर सरकार और लोगो को कई लाभ पहुंचाता हैं। जिनका वर्णन नीचे किया गया हैं

नकारात्मकता दूर करता हैं।

किसी भी नागरिक के लिए कर एक अतिरिक्त बोझ के समान होता हैं। जो काफी नागरिक के मध्य कर को लेकर नकारात्मक गतिविधियों को बढ़ावा देता हैं। अप्रत्यक्ष कर किसी भी नागरिक पर सीधा बोझ नहीं डालता हैं।

समानता

अप्रत्यक्ष कर किसी भी प्रकार से भेदभाव नहीं करता हैं। यह कर देश के प्रत्येक व्यक्ति पर समान रूप से लागू किया जाता हैं। इससे हर व्यक्ति देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने में योगदान कर सकते हैं।

न्यायप्रिय

यह कर उत्पाद पर लगने के कारण अधिक लाभदायक और न्यायपूर्ण होते हैं। उत्पाद की कीमत अधिक होने की स्थिति में कर का भुगतान भी अधिक होता हैं। और जो लोग इसे खरीदने में सक्षम होते हैं वे अधिक कर का भुगतान करते हैं। कम मूल्य की स्थिति में कम करदेयता होती हैं।

कम स्पष्टता

यह अधिक स्पष्ट नहीं होते हैं। इन्हे बिक्री मूल्य में जोड़कर लगाया जाता हैं। जिन्हे आप केवल बिल में देख सकते हैं। लोग अक्सर इन करों पर ध्यान केंद्रित नहीं करते हैं।

सुविधाजनक

लोग कर देने से होने वाली परेशानी से छुटकारा पाने की कोशिश करते हैं। अप्रत्यक्ष कर इन्हें उन सभी समस्या से छुटकारा देता हैं। क्योंकि यह कर बिक्री के अंतिम बिंदु तक बिना किसी परेशानी के एकत्र किया जा सकता हैं।

आसान संग्रह

अप्रत्यक्ष कर को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में स्थानांतरित करना आसान होता हैं। इसके लिए किसी भी दस्तावेजों की आवश्यकता नहीं पड़ती हैं। जब भी उपभोक्ता उत्पाद या सेवा का उपयोग करता हैं। तब आपूर्तिकर्ता द्वारा भुगतान के समय कर एकत्रित कर लेता हैं। और सरकार को दे देता हैं।

हानिकारक उत्पाद पर रोक

स्वास्थय के लिए हानि पहुंचाने वाले उत्पादों पर अधिक कर लगाया जाता हैं। जिससे उनके मूल्य में वृद्धि होती हैं और उनका उपयोग कम होता हैं। किसी भी वस्तु का मूल्य कम होने से बिक्री अधिक होती हैं। कीमत अधिक होने से लोग इसके सेवन से बचते हैं।

व्यापक दायरा

इस तरह के कर एक सीमित क्षेत्र में होते हैं। जो उत्पादों या सेवाओं की श्रृंखला पर लगाया जाते हैं। और यह केवल बिक्री होने की स्थिति में प्राप्त किया जाता हैं। जो राशि में कम होता हैं। इसलिए लोग इसे पसंद करते हैं।

समय की बचत

सरकार यह कर विक्रेता या निर्माता से लेती हैं। जिससे उन्हें हर उपभोक्ता के ऊपर नजर रखने की आवश्यकता नहीं होती हैं। और उनका काफी समय बच जाता हैं। और कम प्रयास में कर एकत्रित हो जाता हैं।

अप्रत्यक्ष कर की हानि

अप्रत्यक्ष कर के कई अच्छे लाभ हैं किंतु सभी व्यक्तियों को संतुष्ट नहीं किया जा सकता हैं। जिस कारण इसके कई नुकसान देखने को मिलते हैं।

प्रतिगामी प्रकृति

वस्तुओ के लिए समान होने के कारण यह प्रतिगामी प्रकृति का होता हैं। यह इसकी विशेषता हैं किंतु नुकसानदायक भी हैं। इस कारण पिछड़ा वर्ग अपनी आय का अधिकांश भाग अप्रत्यक्ष कर के रूप में दे देता हैं। जो उनकी आर्थिक स्थिति पर दबाव बनाता हैं। जबकि विकसित वर्ग इनसे अधिक प्रभावित नहीं होते हैं।

संचयी

इसमें निर्माता और उपभोक्ता के बीच कार्यरत बिचौलिया के अपने सेवा कर शामिल करने की संभावना रहती हैं जिससे उत्पाद मूल्य में वृद्धि होती हैं और उपभोक्ता पर कर की मात्रा बढ़ जाती हैं।

मुद्रास्फीति

अप्रत्यक्ष कर में वृद्धि होने से उत्पाद के मूल्य में भी वृद्धि होगी। विक्रेता अधिक मूल्य पर उत्पाद बिक्री करेंगे। जिससे मुद्रास्फीति की समस्या उत्पन्न हो सकती हैं।

हतोत्साहित उद्योग

जब किसी कच्चे माल पर कर लगाया जाए तो वह उत्पाद निर्माण के मूल्य में वृद्धि कर सकता हैं। जिससे उत्पाद अधिक महंगे हो जायेंगे। और यह बाजार की प्रतिस्पर्धात्मकता को भी प्रभावित करता हैं। इससे उत्पाद निर्माता हतोत्साहित होते हैं।

अनिश्चित राजस्व

यह वस्तुओं और सेवाओं की बिक्री पर निर्भर करता हैं। इसलिए यह तय नहीं किया जा सकता कि सरकार को कितना राजस्व प्राप्त होगा? इसलिए सरकार इस पर पूरे तरीके से निर्भर नहीं होती हैं। इसको प्राप्त करने में सरकार काफी राशि का व्यय कर देती हैं।

न्यायसंगत

कुछ लोगो का मानना हैं कि यह न्यानसंगत नही होते हैं। इसमें गरीब व्यक्ति पर अपनी आय के अनुपात में अधिक कर का बोझ पड़ता हैं जबकि अमीर आदमी पर कम बोझ आता हैं।

जागरूकता में कमी

अप्रत्यक्ष कर के बारे में सामान्य व्यक्ति को जानकारी नहीं होती हैं। और वह बिना जाने कर का भुगतान करता हैं। जिससे उसमे सरकार या देश के प्रति स्वेच्छा से कर भरने की जागरूकता उत्पन्न नहीं होती हैं।

धोखा देने की प्रवृत्ति

लोग कर से बचने के लिए उत्पाद को गुप्त रूप से बिक्री कर देते हैं। जिससे कर सरकार को नहीं भरा जा सके और लोगो को कम मूल्य में उत्पाद देकर बिक्री को अधिक किया जा सके। इससे सरकार को धोखा देने की प्रवृत्ति का भी जन्म होता हैं।

असमंजस और बेरोजगारी

यह कर प्रणाली सरकार की कई विभागों द्वारा संचालित होने के कारण सभी करों में आपस में असमंजसता बढ़ती हैं। जिससे मूल्य वृद्धि होने से मांग में कमी होती हैं। और इससे बेरोजगारी और जन जीवन में समस्या उत्पन्न होती हैं।

अप्रत्यक्ष कर की सेवाएं

Jain Account आपको कम मूल्य में बेहतरीन सेवाएं प्रदान करता हैं। भारत में किसी भी तरह के अप्रत्यक्ष कर के समाधान या सेवा प्राप्त करने हेतु संपर्क करें।

निष्कर्ष

इस लेख को पढ़ने के बाद आपको अप्रत्यक्ष कर को लेकर काफी चिंताएं दूर हो गई होगी। यह आपके लिए उपयोगी है या नहीं। इसके बारे में आपको बेहतर जानकारी होगी। हमने इनसे होने वाले लाभ और हानि दोनो के बारे में बताया हैं।

अगर इस लेख में आपको किसी जानकारी से लेकर कोई समस्या या राय है तो टिप्पणी अवश्य करें। आपके विचार हमारे लिए जरूरी हैं।

व्यापार, वित्तीय, लेखांकन और कराधान संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारा अनुसरण करें। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो अपने मित्रों और रिश्तेदारों से सांझा अवश्य करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Optimized by Optimole